hareli-tyohar-kahan-manaya-jata-hai

हरेली त्यौहार कब क्यों और कहां मनाया जाता है……!

0
हरेली त्यौहार क्या होता है- हरेली तिहार Hareli Tihar किसानों का सबसे बडा महत्वपूर्ण त्योहार है। हरेली शब्द हिंदी शब्द ‘हरियाली’ से उत्पन्न हुआ है हरेली Hareli जिसे हरियाली के नाम...
9-August-Ko-Vishv-Adivasi-Divas-Kyon-Manaya-Jata-Hai

विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को क्यों मनाया जाता है? | 9 August Ko...

0
विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को क्यों मनाया जाता है वर्ष 1982 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने आदिवासियों के भले के लिए एक कार्यदल गठित की थी, जिसकी बैठक 9 अगस्त...
बस्तर-की-सबसे-अनमोल-नृत्य-हैं-गौर-माड़िया-नृत्य-Bastar-Gaur-Madia-Nritya

बस्तर की सबसे अनमोल नृत्य हैं, गौर माड़िया नृत्य | Bastar Gaur Madia Nritya

0
नृत्य आदिम सभ्यता का सबसे खूबसूरत अंग है। इसकी खूबसूरती मधुर संगीत और आकर्षक पोशाक से पल्लवित होती है। नृत्य के मनमोहक पहलुओं को बस्तर के आदिवासियों ने आज भी कुछ...
बस्तर के-हस्तशिल्प-एंव-शिल्पकला-की-रोचक-जानकारी-Bastar-Hastshilp-Shilpkala

बस्तर के हस्तशिल्प एंव शिल्पकला की रोचक जानकारी | Bastar Hastshilp Shilpkala

0
बस्तर हस्तशिल्प एंव शिल्पकला Bastar Hastshilp Shilpkala:- बस्तर अंचल के हस्तशिल्प, चाहे वे आदिवासी हस्तशिल्प हों या लोक हस्तशिल्प, दुनिया-भर के कलाप्रेमियों का ध्यान आकृष्ट करने में सक्षम रहा हैं। बस्तर...
बस्तर-में-कुम्हड़ा-कद्दू-की-प्रमुख-विशेषताये-क्या-है-जानिए-Bastar-Pumpkin

बस्तर में कुम्हड़ा कद्दू की प्रमुख विशेषताये क्या है? जानिए | Bastar Pumpkin

0
हम सभी मानते हैं कि किसी भी प्रान्त का खान -पान वहां की भौगोलिक स्थिति , जलवायु और वहां होने वाली फसलों पर निर्भर करता है। छत्तीसगढ़ एक वर्षा और वन...
मां-दंतेश्वरी-ने-महिषासुर-का-वध-इसी-जगह-पर-किया-था-बड़े-डोंगर-Bade-dongar-Kondagaon

मां दंतेश्वरी ने महिषासुर का वध इसी जगह पर किया था ? “बड़े डोंगर”...

0
छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के कोंडागांव जिले के अंतर्गत फरसगांव से 30 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम बडे डोंगर की पहाड़ी पर मां दंतेश्वरी विराजमान हैं। यहां की परंपरा बस्तर दशहरा...
100-साल-पहले-गणेशजी-की-प्रतिमा-राजबेड़ा-में-पहिए-टूटे-तो-यहीं-की-स्थापना-Rajbeda-Narayanpur-Bastar

100 साल पहले गणेशजी की प्रतिमा, राजबेड़ा में पहिए टूटे तो यहीं की स्थापना...

0
छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में स्थित एक धार्मिक स्थल है। जो राजबेड़ा के नाम से जाना जाता है। राजबेड़ा में भगवान गणेश एवं मां दुर्गा की एक प्राचीन प्रतिमा स्थित है,...
बस्तर-के-प्रकृति-रिश्तों-को-जोड़ते-हैं-ककसाड़-नृत्य-Kaksar-Nritya-Bastar

बस्तर के प्रकृति रिश्तों को जोड़ते हैं ककसाड़ नृत्य | Kaksar Nritya Bastar

0
ककसाड़ नृत्य एक धार्मिक नृत्य है जिसे करते समय नर्तक युवा अपने कमर में पीतल अथवा लोहे की घंटियां से बना कमरबंध, हिरनांग बांधे रहते हैं, इसके अलाव युवा अपने सिर...
सदियों-पुरानी-परम्परा-धान-के-बालियों-से-बनते-है-सेला-झालर-Bastar-Dhan-Sela

सदियों पुरानी परम्परा, धान के बालियों से बनते है सेला झालर | Bastar Dhan...

0
बस्तर में पके धान की बालियों को आकर्षक तरीके से गूँथ कर वंदनवार बनाया जाता है जिसे ‘सेला’ कहा जाता है जो हल्बी शब्द है। यह बस्तर के बाजारों में सभी...
बस्तर-के-पूर्वज-देवी-देवताओं-के-नाम-Bastar-Ke-devi-Devta

बस्तर के पूर्वज देवी-देवताओं के नाम | Bastar Ke devi Devta

0
बस्तर में देवी– देवताओं की संख्या अनगिनित है, कुछ देवी देवता ऐसे भी हैं जिनका नाम सभी स्थानों पर सुनने को मिलता है परन्तु अधिकांशत प्रत्येक गांव में नए नए देवी...

FOLLOW US

1,235FansLike
1,295FollowersFollow
1,576FollowersFollow
975FollowersFollow

POPULAR POST

कार्मिक सम्पदा सॉफ्टवेयर में करना होगा अपडेट – Karmik Sampada updation

0
कार्मिक सम्पदा सॉफ्टवेयर Karmik Sampada software (e-karmchari) updation में Regular कर्मचारियों को कार्मिक सम्पदा में जो प्रपत्र भरा जाना है उसका पूरा डिटेल यहाँ...