राजवंशो के द्वारा निर्मित गुमड़पाल शिव मंदिर बस्तर – Gumadpal shiv Temple

0
212
गुमड़पाल-शिव-मंदिर-बस्तर -Gumadpal-shiv-Temple-Bastar

गुमड़पाल शिव मंदिर Gumadpal shiv Temple बस्तर Bastar में कई अलग अलग स्थलों पर नल वंश, छिन्दक नागवंश, काकतीय चालुक्य वंश ने लम्बे समय तक शासन करने के बाद इन राजवंशो ने कई अलग-अलग जगह पर मंदिरों का निर्माण किया और कुछ मंदिरों का निर्माण परिस्थितियों में किया गया और कुछ जगह ऐसी भी है जहां गुफाओं या झरनों के नीचे पहुंचा पाना असंभव है।

ऐसा माना जाता है कि बस्तर में कई मंदिर हैं जो विभिन्न देवी-देवताओं की याद में बनाए गए हैं मंदिरों में शानदार शिलालेख और सुंदर सजावट की गई है। अधिकांश मंदिर ध्वस्त हो चुके है, कुछ ही गिनती के मंदिर सही सुरक्षित अवस्था में विद्यमान है, ऐसा ही एक मंदिर गुमड़पाल Gumadpal में है, जो दक्षिण भारत की द्रविड स्थापत्य कला का एक सुन्दर उदाहरण है।

शिव मंदिर shiv Temple लगभग 20 फीट ऊंचा व 2 फीट ऊंची जगती पर निर्मित है, मन्दिर गर्भगृहअंतराल एवं मंडप में विभक्त है, मंडप पुरी तरह से नष्ट हो चुका है.. मात्र वर्गाकार गर्भगृह ही शेष है. गर्भगृह के प्रवेश द्वार में गणेश जी का अंकन है।

गर्भगृह में शिव मंदिर shiv Temple को जलधारी या योनी-पीठ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि शिव मंदिर का निर्माण 13 वीं शताब्दी ईस्वी में काकतीय शासकों द्वारा पूर्व की ओर एक उभरे हुए मंच पर किया गया था।

यह भी पढें – यहां होती है भगवान शिव की स्त्री के रूप में पूजा

शिव मंदिर shiv Temple इतना सुंदर है कि यह एक विरासत स्थल की तरह दिखाई देता है और इसमें एक वास्तुकला है जो उस क्षेत्र को दर्शाती है जिसमें इसका निर्माण किया गया है। इस प्रकार निर्मित शिव मंदिर shiv Temple क्षेत्र में रहने वाले लोगों के आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक आयामों और मान्यताओं और साथ ही पर्यटकों की सेवा करने के लिए है।

मंदिरों का निर्माण आम भगवानों की याद में किया जाता है और इस तरह उन्हें प्रतिकृतियों के रूप में माना जाता है। मंदिर प्राचीन अतीत का एक शानदार प्रतिबिंब हैं, जिस तरह से लोग अलग-अलग भगवानों पर विश्वास करते थे और उनकी पूजा करते थे।

मंदिर की दीवारें भारत की प्राचीन संस्कृति को दर्शाती और चित्रित करते हुए मूर्ति बनावट के साथ अंकित हैं। मंदिरों के दर्शन करने से व्यक्ति को अत्यधिक शांति होती है। बस्तर में ज्यादातर महान देवी मॉ दंतेश्वरी, मॉ मावली और मॉ बंजारिन को मानी जाती हैं।

कहां और कैसे पहुंचें?

विश्वप्रसिद्ध तीरथगढ़ जलप्रपात से आगे कटेकल्याण जाने वाले मार्ग में गुमडपाल गॉव है. इस गॉव को चिंगीतराई Chingitarai भी कहा जाता है, इस गॉव में तालाब के पास एक छोटा सा प्राचीन मन्दिर स्थित है।

जिसे गुमड़पाल शिव मंदिर Gumadpal shiv Temple के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर कटेकल्याण से लगभग 15 कि0मी0की दूरी में स्थित है। ऐसी ही जानकारी daily पाने के लिए हमारे Facebook Page को like करे इससे आप को हर ताजा अपडेट की जानकारी आप तक पहुँच जायेगी।

!! धन्यवाद !!

 

इन्हे भी एक बार जरूर पढ़े :-

11 वीं. शताब्दी की समलूर शिव मंदिर
अमरावती कोण्डागॉव शिव मंदिर
बस्तर संभाग की ऐतिहासिक प्रसिध्द प्रमुख गुफाएँ
बस्तर गोंचा पर्व में तुपकी का विशेष महत्व
बस्तर का इतिहास के बारे में नहीं जानते होगें आप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here