Home रोचक कोण्डागॉव धनकुल एथनिक रिसॉर्ट में जनजातीय संस्कृति से परिचित होंगे टूरिस्ट –...

कोण्डागॉव धनकुल एथनिक रिसॉर्ट में जनजातीय संस्कृति से परिचित होंगे टूरिस्ट – Dhankul Ethnic Resort

0
322
कोण्डागॉव-धनकुल-एथनिक-रिसॉर्ट-में-जनजातीय-संस्कृति-से-परिचित-होंगे-टूरिस्

छत्तीसगढ़ chhattisgarh के बस्तर Bastar पर्यटन की दृष्टि से एक समृद्ध संभाग है, यहां पर वे सारी धार्मिक व पर्यटन स्थल उपलब्ध है, जिसे एक पर्यटक की रूचि से देखा जा सकता है, बस्तर में धार्मिक, पुरातात्विक एवं प्राकृतिक स्थलों की भरमार है।

इसके साथ ही बस्तर Bastar की पहचान यहां की आदिवासी एवं जनजातीय संस्कृति से भी है, और अब यहां के पर्यटकों को सामान्य पर्यटन के साथ स्थानीय संस्कृति को निकट से देखने एवं उनकी विशेषताओं को समझने का अवसर धनकुल एथनिक रिसॉर्ट Dhankul Ethnic Resort में मिलेगा।

कोण्डागांव Kondagaon जिले की खूबसूरत वादियों में पर्यटकों के लिये इस धनकुल में एथनिक रिसॉर्ट Dhankul Ethnic Resort का निर्माण किया गया है। जिसमें जनजातीय समुदाय की परंपरागत विशेषताओं को वृहद रूप से सजोएं हुए है, जो किसी भी आदिवासी गांव से कम नहीं है।

यह भी पढें – मोहरी बाजा के बिना बस्तर में नहीं होता कोई भी शुभ काम

धनकुल एथनिक रिसॉर्ट Dhankul Ethnic Resort में बस्तर की आदिवासी संस्कृति एवं जीवनशैली से तैयार किये गए ऐसे कई सारे घर देखने को मिलेगें जैसे यहां मुरिया, भतरा, धुरवा, माड़िया के घर एवं घोटूल देखने को मिलता है।

इस धनकुल एथनिक रिसॉर्ट Dhankul Ethnic Resort में आदिवासी जनजातीय परपंरागत शैली में संग्रहालय का भी निर्माण किया गया है, जहां जनजातीय समुदाय के विभिन्न कालखंडो में दैनिक जीवन में उपयोग में लाए जाने वाले

दुर्लभ वाद्य यंत्र, कृषि उपकरण, लौह शिल्प, काष्ठ शिल्प, ढोकरा शिल्प, टेराकोटा एवं बांस शिल्प से निर्मित अलग-अलग कला कृतियों को धरोहर के रूप में सजों के रखा गया है।

यहां आगमन के साथ ही यहां का प्रवेश द्वार जगदलपुर स्थित दंतेश्वरी मंदिर के प्रवेश द्वार के रूप से बनाया गया है जो अपने वैभवशाली अतीत की कहानी खुद बयां करता है।

दंतेश्वरी मंदिर के प्रवेश द्वार की प्रतिकृति के रूप में निर्मित किया गया यह प्रवेश द्वार दंतेश्वरी बस्तर अंचल की आराध्य देवी है जिनका यहां के जनजातीय और लोक समाजों की संस्कृतियों में अत्यधिक महत्त्वपूर्ण स्थान है।

रिसॉर्ट का प्रत्येक स्थल जनजातीय संस्कृति की अनुपम छटा प्रदर्शित करता है, दंतेश्वरी माई की क्षेत्र व्यापी धार्मिक तथा सांस्कृति से प्रेरित होकर उनके दंतेश्वरी मंदिर के प्रवेश द्वार को प्रतिरूपित किया गया है। ऐसी ही जानकारी daily पाने के लिए हमारे Facebook Page को like करे इससे आप को हर ताजा अपडेट की जानकारी आप तक पहुँच जायेगी।

!! धन्यवाद !!

इन्हे भी एक बार जरूर पढ़े :-

बस्तर का पहला भारतीय हालीवुड हीरो द टाईगर बाय चेंदरू
शरीर को ऊर्जा, स्फूर्ति देने वाला बस्तर का पारम्परिक आहार लांदा
बस्तर की देवी देवताओं में चढ़ाई जाती है पारिजात फूल
बस्तर का पहला पारम्परिक नवाखानी त्यौहार
लुप्त होता जा रहा है बस्तर का देसी थर्मस तुमा
बस्तर झिटकू-मिटकी की सुप्रसिद्ध प्रेमकथा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

%d bloggers like this: