Home रोचक बस्तर बियर सल्फी की कुछ खास बातें – Bastar beer salfi

बस्तर बियर सल्फी की कुछ खास बातें – Bastar beer salfi

0
434
बस्तर-बियर-सल्फी-की-कुछ-खास-बातें-जानिए-Bastar-beer-salfi

बस्तर बियर Bastar beer आप में से शायद ही किसी ने सुना हो कि किसी पेड़ से आनन्द दायक पेय मिलता हो लेकिन बस्तर मे ऐसे पेड़ पाये जाते है जिससे ऐसा पेय रस मिलता है जिसे आदिवासी ग्रामीणजनों के द्वारा बेच कर अच्छी खासी आ्मदनी किया जाता है बस्तर बियर Bastar beer ये बियर बाज़ार में मिलने वाली बियर नहीं है बल्कि एक तरह के पेड़ से निकलने वाले रस से बनने वाली बस्तर बियर Bastar beer है।

यह पेय रस स्वास्थ्य के लिए लाभदायक माना जाता है पर इस पेड़ से निकलने वाला रस बासी होने लगता है तो इसमें खमीर उठने लगता है और इसके सेवन करने से नशा चढ़ता है इसलिए इस पेय को बस्तर की बस्तर बियर Bastar beer या देसी बियर Desi beer के नाम से जाना जाता है। बस्तर में ठंड के मौसम आते ही बस्तर की प्रसिद्ध बस्तर बियर सल्फी Bastar beer salfi का मौसम भी आ जाता है। ठंड का मौसम आते ही सल्फी पेड़ से रस निकलना शुरू होता है। इसके शौकीन इसके सेवन के लिए गांव गांव पहुंचने लगते हैं।

बस्तर-बियर-सल्फी-की-कुछ-खास-बातें-जानिए-Bastar-beer-salfi.
                                         सल्फी पेड़

सल्फी salfi का ताजा रस स्वास्थ्य के लिये अच्छा माना जाता है सल्फी के रस को हिलाने से बीयर की तरह झाग निकलता है साथ ही इसके सेवन से नशा भी होता है। यह बीयर की तरह हल्का नशा होने के कारण बस्तर में बस्तर बीयर या देशी बीयर के नाम से प्रसिद्ध है। अब शहरों से भी बड़ी संख्या में लोग इसका सेवन करने गांव पहुंचते हैं मांग अधिक होने के चलते सल्फी रस बहुत अधिक महंगा बिकने लगा है।

बस्तर बियर सल्फी Bastar beer salfi का यह पेड़ बस्तर संभाग में बहुत अधिक पाया जाता है। सल्फी का पेड़ बस्तर के लिए विशेष महत्व रखता है इस वृक्ष को गोंडी में गोरगा एंव हल्बी में सल्फी salfi कहा जाता है जो सल्फी बस्तर बियर के नाम से भी प्रचलित है यह आदिवासियों में पारंपरिक रुप से एल्कोहलिक पेय पदार्थ के रूप में उपयोग किया जाता है सल्फी पेड़ आकाश पानी के नाम से भी जाना जाता है। सल्फी का पेड़ लगभग 40 फीट तक ऊंचा होता है और 9 से 10 साल के बाद यह रस देना शुरू करता है।

यह भी पढें – बस्तर के डेंगुर फुटु क्यों इतना प्रसिद्ध है?

सल्फी के पेड़ में गुच्छे दार हरे हरे फूल लगता है, जिसे पोंगा कहा जाता है उस पोंगा को काट देते है, जिससे वहां से निकलने वाले रस को हंडी में इकठठा किया जाता है। सल्फी salfi का पेड़ में चढने के लिए किसी सीढी के 40 फिट की उंचाई की बांस के सहारे से अपने जान जोखीम में डालकर उपर चढा जाता है औरे कई ग्रामीण सल्फी के पेड़ से गिरकर अपनी जान गंवा चुके है

सल्फी के पेड़ से रस निकालने का काम एक ही व्यक्ति के द्वारा किया जाता है हर बार एक ही व्यक्ति रस निकालता है. रस निकालने के पहले अपने देवी देवता की पूजा अर्चना की जाती है. सल्फी का रस को पेड से दिन में दो बार निकाला जाता है सुबह और शाम सल्फी एक दिन में करीब 50 लीटर तक रस देने वाले इस पेड़ को बस्तर में ग्रामीण के लिए बहुत ही अच्छा आय का साधन माना जाता है।

यह भी पढें – बस्तर का बोड़ा सबसे महंगा क्यों है?

बस्तर में सल्फी का पेड़ लगभग हर घर में देखने को मिलेगा ऐसा कहा जाता है कि बस्तर में जब लड़की की शादी होती है तो उसे दहेज में सल्फी का पेड़ दिया जाता है और कहा जाता है कि एक सल्फी का पेड़ एक परिवार को पालने के लिए सक्षम होता है इसलिए यह दहेज के रूप में दिया जाता है ताकि लड़की को आर्थिक रुप से कभी कोई तकलीफ ना हो जिससे आजीवन होने वाली कमाई पर लडकी का ही पूरा अधिकार हो।

निष्कर्ष:-

बस्तर में बस्तर बियर सल्फी Bastar beer salfi के पेड़ धीरे धीरे कम होते जा रहे हैं जो चिंता का विषय है अगर आप कभी बस्तर की यात्रा पर निकले तो बस्तर बियर सल्फी Bastar beer salfi का सेवन एक बार जरूर करें उम्मीद करता हूँ यहं जानकारी आप को पसंद आई। हो सके तो अपने दोस्तो के साथ भी शेयर जरूर करे। ऐसी ही जानकारी daily पाने के लिए हमारे Facebook Page को like करे इससे आप को हर ताजा अपडेट की जानकारी आप तक पहुँच जायेगी।

!! धन्यवाद !!

 

इन्हे भी एक बार जरूर पढ़े :-

बस्तर की अनोखी बरसाती छतोड़ी
मोहरी बाजा के बिना बस्तर में नहीं होता कोई भी शुभ काम
चरोटा भाजी औषधी गुणों का खजाना

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

%d bloggers like this: