टाटामारी केशकाल क्यो प्रसिद्ध है ? जानिएं – Tatamari keshkal kondagaon

टाटामारी-केशकाल-क्यो-प्रसिद्ध-है-जानिएं-Tatamari-keshkal-kondagaon

टाटामारी केशकाल Tatamari keshkal हमारे भारत देश के छत्तीसगढ राज्य के राजधानी रायपुर बस्तर कोण्डागॉव के केशकाल में टाटामारी Tatamari है यहां पर प्राकृतिक सुंदरता अद्भुत नजारा देखने योग्य है टाटामारी पिकनिक के लिए बहुत ही अच्छी जगह है चारो तरफ से पहाड़ो तथा हरियाली से घिरा हुआ मन को शांत करने वाली जगह है।

पौराणिक मान्यताओें पर अखण्ड ऋषि के तपोवन पर स्थापित है। धन धान्य की अधिश्ठात्री शक्ति स्वरूप माता महा लक्ष्मी शक्ति पीठ छत्तीसगढ टाटामारी केशकाल Tatamari keshkal में आदिकाल से पौराणिक मान्यताओं पर अखण्ड ऋषि के तपोवन पर स्थापित है बारह भंवर केशकाल घाटी के ऊपरी पठार पर पिछले कई वर्षो से दीपावली लक्ष्मी पूजा के दिन विधि-विधान से श्रद्धालुजन पूजा अर्चना सम्पन्न करते आ रहें है।

भंगा राम माई के मंदिर होते हुए टाटामारी उपरी पठार पर महालक्ष्मी शक्ति पीठ स्थल तक श्रधालु पहुचते है प्राक़तिक सौंदर्य से आच्छादित स्थल मनोरम छटा सौंदर्यमयी अनुपम स्थल का दर्शन करते है ऐतेहासिक धारोहर स्थल टाटामारी के पटार लगभग डेढ सौ एकड जमीन पर अनुपम उंची चोटियों का विहंगम द़ष्य देखते बनता है यह स्थल नैसर्गिक रूप से मनोहरी है।

टाटामारी Tatamari पहाड के उपर बहुत ही पर्यटक के माध्यम से उभरते जा रहा है और यहां पर बहुत ही सुन्दर नजारा देखने को मिलता है यहां की मौसम बहुत ही सुहाना और सौंदर्य है यहां पर्यटकों के लिए रूकने भोजन चाय नास्ता की व्यवस्था की गई है कोई भी पर्यटक यहां पर रूक सकते है साथ ही यहां पर बच्चों के लिए झुले एंव खेलने कूदने की सारी व्यवस्था की गई है जिससे बच्चे काफी अच्छे से खेल कूद का आंनद ले सकते है टाटामारी में एक वाच टावर बनाया गया है जहां पर पर्यटक उपर चढकर मनमोहक द़श्य देख सकते है।

टाटामारी कैसे पहुंचें

टाटामारी केशकाल Tatamari keshkal सड़क के द्वारा रायपुर Raipur बस स्टैंड से 151 किमी की दूरी पर स्तिथ जगदलपुर Jagdalpur बस स्टैंड से 141 किमी की दूरी पर स्तिथ है केशकाल Keshkal के मध्य एक रास्ता पूर्व दिशा कि ओर कटा है। उसी रास्ता से आप टाटामारी जा सकते हैं यह रास्ता केशकाल घुसने के बाद पहला ही मोड पर है।

वह आपको पूर्व उत्तर दिशा मे लेकर जाता है। टाटामारी पहुचनें से कुछ दुर पहले एक दोराहा मिलता है। एक मंदिर लेकर जाता है। और एक टाटामारी लेकर जाता हैं आप दोराहा के पास पहुंचने पर दाया हाथ वाला कच्ची रास्ता पकड़े सीधा टाटामारी लेकर जायेगा। 

निष्कर्ष:-

टाटामारी केशकाल कोण्डागॉव Tatamari keshkal Kondagaon का भ्रमण एक बार आप जरूर करे टाटामारी पहाड के उपर है यहां की मौसम बहुत ही सुहाना और सौंदर्य होती है यहां पर आप मनमोहक द़श्य देख सकते है उम्मीद करता हूँ जानकारी आप को पसंद आई है। हो सके तो दोस्तो के साथ शेयर भी जरूर करे ऐसी ही जानकारी daily पाने  के लिए Facebook Page को like करे इससे आप को हर ताजा अपडेट की जानकारी आप तक पहुँच जायेगी।
 

!! धन्यवाद !!

इन्हे भी एक बार जरूर पढ़े :-

प्राकृतिक सौंदर्य तीरथगढ जलप्रपात
कोण्डागॉव जिले की रोचक जानकारी
जगदलपुर शहर बस्तर छत्तीसगढ़ की सच्चाई नहीं जानते होंगे
कुटमसर गुफा जगदलपुर बस्तर
अमरावती कोण्डागॉव शिव मंदिर
चापड़ा चटनी अगर आप भी है बिमारियों से परेशान तो मिनटों में गायब हो जाएगी कई बीमारी

Share:

Facebook
Twitter
WhatsApp

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

On Key

Related Posts

बस्तर-क्षेत्रों-का-परम्परागत-त्यौहार-नवाखाई-त्यौहार

बस्तर क्षेत्रों का परम्परागत त्यौहार नवाखाई त्यौहार

बस्तर के नवाखाई त्यौहार:- बस्तर का पहला पारम्परिक नवाखाई त्यौहार Nawakhai festival बस्तर Bastar में आदिवासियों के नए फसल का पहला त्यौहार होता है, जिसे

बेहद-अनोखा-है-बस्तर-दशहरा-की-डेरी-गड़ई-रस्म

बेहद अनोखा है? बस्तर दशहरा की ‘डेरी गड़ई’ रस्म

डेरी गड़ाई रस्म- बस्तर दशहरा में पाटजात्रा के बाद दुसरी सबसे महत्वपूर्ण रस्म होती है डेरी गड़ाई रस्म। पाठ-जात्रा से प्रारंभ हुई पर्व की दूसरी

बस्तर-का-प्रसिद्ध-लोकनृत्य-'डंडारी-नृत्य'-क्या-है-जानिए

बस्तर का प्रसिद्ध लोकनृत्य ‘डंडारी नृत्य’ क्या है? जानिए……!

डंडारी नृत्य-बस्तर के धुरवा जनजाति के द्वारा किये जाने वाला नृत्य है यह नृत्य त्यौहारों, बस्तर दशहरा एवं दंतेवाड़ा के फागुन मेले के अवसर पर

जानिए-बास्ता-को-बस्तर-की-प्रसिद्ध-सब्जी-क्यों-कहा-जाता-है

जानिए, बास्ता को बस्तर की प्रसिद्ध सब्जी क्यों कहा जाता है?

बस्तर अपनी अनूठी परंपरा के साथ साथ खान-पान के लिए भी जाना जाता है। बस्तर में जब सब्जियों की बात होती है तो पहले जंगलों

Scroll to Top
%d bloggers like this: